मुनस्यारी उत्तराखंड। Best Places to Visit Munsyari Uttarakhand – 2021

उत्तरखंड का कश्मीर मिनी कश्मीर – मुनस्यारी उत्तराखंड। मुनस्यारी हिल स्टेशन। Munsyari Uttarkhand in Hindi। Places to Visit in Munsyari Uttarakhand – 2021

यदि आपकी चाहते है कि जब सुबह आपकी आँख खुले तो सामने आपके सामने चमकता हुआ हिमालय और लाली बिखेरता सूरज दिखाई दें। यदि आप अपनी ये चाहत पूरी करना चाहते हो तो उत्तराखंड का मुनस्यारी (Munsyari Uttarakhand) आपका इंतजार कर रहा है। वैसे तो सभी पहाड़ी पर्यटन स्थल यानि हिल स्टेशन खूबसूरत होते है।

लेकिन सभी हिल स्टशनों की अपनी अलग पहचान व खूबसूरती होती है। मुनस्यारी उत्तराखंड के पिथौरागढ़ जिले में छोटी पर बसा एक बहुत ही खूबसूरत पर्यटन स्थल है। समुद्र तल से लगभग 2200 मी (7200) की ऊंचाई पर स्थित Munsyari Uttarakhand को मानो खुदरत का वरदान मिला हो।

मुनस्यारी की प्राकृतिक सुंदरता, बर्फीली पहाड़ी चोटियां, सुन्दर जंगल, हरे भरे घास के मैदान, हिमालयी बनस्पतियो व जड़ी बूटियों के लिए विश्व भर में प्रसिद्ध है। तिब्बत व नेपाल के नजदीक यह हिल स्टेशन साहसिक ट्रैवेलर्स के लिए स्वर्ग समान है। इसे उत्तराखंड का मिनी कश्मीर कहा जाता है।

इन्हें भी पढ़े- मसूरी उत्तराखंड – पहाड़ों की रानी, 10 Best Place to Visit in Mussoorie – 2021

मुनस्यारी में कहाँ घूमे।

बिर्थी झरना मुनस्यारी उत्तराखंड (Birthi Water Fall Munsyari Uttarakhand in Hindi)

यह झरना मुनस्यारी से लगभग 35 किमी पहले मुनस्यारी आते समय रास्ते में पड़ता है। यह एक दूधिया झरना है, और लगभग 400 फिट की ऊंचाई से गिरता है। बरसात में मानसून के कारण व गर्मियों में ऊपर बर्फ पिघलने के कारण इसके लिए पानी मिलता रहता है।

यही कारण है कि इस वाटर फॉल मै साल भर पानी बहता रहता है। बिर्थी एक छोटा सा गांव है लेकिन इसकी पहचान इस वाटर फॉल के कारण है। मुनस्यारी तक 1960 में सड़क बन गयी थी। तभी यहां लोगों का आना जाना बढ़ने से यह वाटर फॉल लोगो की जानकारी में आया था।

खलिया टॉप मुनस्यारी उत्तराखंड (Khaliya Top Munsyari Uttarakhand in Hindi)

बिर्थी फॉल से मुनस्यारी की और जाते समय लगभग 22 किमी की दूरी पर खलिया द्वार नामक स्थान है। खलिया द्वार से ही खलिया टॉप के लिए ट्रैकिंग का रास्ता है। जो लगभग 4-5 किमी की ट्रैकिंग है। आप रोड साइड पर गाड़ी पार्क कर एवं 20 रूपये का प्रवेश शुल्क (Entry Fee) देकर खलिया टॉप जा सकते है।

खलिया टॉप देश व विदेश के टूरिस्ट में काफी प्रसिद्ध है, और यहां ट्रैकिंग के शौकीन पर्यटक ट्रैकिंग करने जरूर आते है। यहां से आप हिमालय रेंज के बहुत ही खूबसूरत पर्वतो का नजारा देख सकते है। यहां टॉप पर आपको बर्फ भी देखने को मिलेगी।

माउंटेन के पीक पर कुमाऊं मण्डल विकास निगम के गैस्ट हाउस भी है। यह गेस्ट हाउस सीजन में खुला रहता है और आप यहां रुक भी सकते है। यहां खाने पीने के विकल्प भी उपलब्ध है।

इन्हें भी पढ़े- Dhanaulti Uttarakhad, Snowfall in Dhanaulti in Hindi – 2021

थमरी कुंड मुनस्यारी उत्तराखंड (Thamrin Kund Munsyari Uttarakhand in Hindi)

खलिया टॉप से मात्र एक किमी आगे मुनस्यारी की और जाने पर आप थमरिन खुंड हाइक ट्रेल नामक स्थान है। जहां से थमरिन कुंड के लिए ट्रैकिंग शुरू होती है। जो मात्र 1-2 किमी लम्बा ट्रैक है। यह मुनस्यारी से लगभग 12 किमी की दुरी पर स्थित है। यहां से आप थमरि झील भी जा सकते है जो यहां से ज्यादा दूर नहीं है।

नंदा देवी मंदिर मुनस्यारी (Nanda Devi Temple Munsyari Uttarakhand in Hindi)

नंदा देवी मंदिर मुनस्यारी बस स्टेण्ड से मात्रा 2.5 किमी दूर स्थित है। यहां जाने के लिए अच्छी सड़के है और आप अपने व्यक्तिगत वाहन या शेयर टेक्सी से जा सकते है। आप पैदल भी जा सकते है। पैदल जाते समय आपको बहुत सुन्दर नज़ारे देखने को मिलेंगे। यहां पर आपको 20 रूपए का एंट्री टिकट लेना पड़ेगा। मंदिर से हिमालय पर्वत के खूबसूरत नज़ारे आपको देखने को मिलेंगे। आपको यहां जाकर बहुत मजा आने वाला है। यहां कुछ देर रूककर आप सेल्फी भी जरूर लें।

महेश्वरी कुंड उत्तराखंड (Maheshwari Kund Munsyari Uttarakhand in Hindi)

इसे स्थानीय भाषा में महेश्वर कुंड या मेसर कुंड भी कहा जाता है। यह मुनस्यारी के पास स्थित एक प्राकृतिक झील है। यहां से पंचाचूली पर्वत का अद्भुत नजारा दिखाई देता है। माहेश्वरी कुंड से जुडी कुछ पौराणिक मान्यता भी है। मान्यता है कि इस छोटी सी झील में एक यक्ष रहते थे, जिनके द्वारा श्राफ देने पर इस स्थान पर कही सालो तक सूखे का सामना करना पड़ा था।

इन्हें भी पढ़े – मनसा देवी मंदिर हरिद्वार जहां हर वर्ष लाखों श्रद्धालु बृक्ष पर बांधते है मन्नत के लिए धागा।

मैडकोट मुनस्यारी (Maitkot Munsyari Uttarakhand in Hindi)

मैटकोट मुनस्यारी से पांच किमी की दुरी पर स्थित है। आप यहां पर घूमने का प्लान कर सकते है। यहां पर गर्म पानी का एक कुंड है। मान्यता है कि इस पानी से कहीं रोगो का उपचार होता है जैसे – बदन दर्दल, त्वचा रोग एवं गठिया आदि। यह स्थान शांत वह सुकूनदायी है। यहां जाने से आप शांति की अनुभूति करेंगे।

मुनस्यारी कैसे पहुंचे (How to Reach in Munsyari in Hindi)

सड़क मार्ग द्वारा (By Bus)

दिल्ली से मुनस्यारी के लिए उत्तराखंड परिवहन निगम की एक साधारण बस चलती है जिसका किराया लगभग  950 रूपए है। और आप पहले हल्द्वानी तक भी बस या ट्रैन से आ सकते है। हल्द्वानी से मुनस्यारी के लिए शेयर टेक्सी व पब्लिक ट्रांसपोर्ट उपलब्ध है। यदि आप पहले नैनीताल आए है तो नैनीताल से भी मुनस्यारी के लिए टेक्सी व बस उपलब्ध है। नैनीताल से मुनस्यारी की दुरी 261 किमी है।

रेल मार्ग द्वारा (By Train)

मुनस्यारी जाने के लिए नजदीकी रेलवे स्टेशन काठगोदाम ((278 किमी) व टनकपुर (277 किमी) है। काठगोदाम व टनकपुर से मुनस्यारी तक सड़क मार्ग द्वारा पहुंचा जा सकता है।

हवाई रास्ते से से (By Air)

पंतनगर 370 हवाई मार्ग से पहुँचने के लिए नजदीकी हवाई हड्डा पंतनगर है जो मुनस्यारी से 370 किमी की दुरी पर स्थित है। पंतनगर से आप सड़क मार्ग से  हल्द्वानी होते हुए मुनस्यारी पहुँच सकते है।

error: Content is protected !!